पेशे से सिविल इंजीनियर है यह शख्स, गिटार से मिली नई पहचान, सिर्फ 1 रुपए में सालभर सिखाते हैं संगीत

New Delhi: हाथों में गिटार रखे, लंबे सफेद बालों वाला तस्वीर में दिख रहा यह शख्स जानते हैं कौन है? इनकी तस्वीर देखकर आपके मन में जरूर आया होगा कि यह कोई भिखारी हैं, लेकिन जनाब यह शख्स कोई भिखारी नहीं है और ना ही सड़क पर पैसे कमाने के लिए इसने गिटार थामी है। यह शख्स पेशे से सिविल इंजीनियर है। यह लोगों को संगीत सिखा रहे हैं। संगीत सिखाने के पीछे इनका एक खास मकसद है। जानते हैं क्या? चलिए बताते हैं…

आज हम आपको आंध्र प्रदेश में जन्में एक ऐसे संगीतकार के बारे में बता रहे हैं, जिसके बारे में जानकर आप भी यही कहेंगे, तुझपर गर्व है। हाथों में गिटार पकड़े हुए इस शख्स का नाम एसबी राव है। यह पेशे से इंजीनियर हैं। इंजीनियर होने के साथ-साथ यह कई बड़ी-बड़ी कंपनियों में काम कर चुके हैं। इनकी सबसे खास बात ये है कि आजकल यह दिल्ली के आंध्र भवन के सामने सिर्फ एक रुपए में लोगों को संगीत के गुर सिखा रहे हैं।

वह सुबह 7 से 9 बजे तक आंध्र भवन के सामने संगीत सिखाते हैं। दोपहर में 2 से शाम 6 बजे तक विजय चौक पर सिखाते हैं। इसके बाद शाम 6 से 9 बजे तक इंडिया गेट के लॉन में इनके संगीत की धुनें सुनाई देती हैं। कई बड़े लोगों को संगीत सिखा चुके हैं इसके अलावा वो दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ-साथ आंध्र के मुख्यमंत्री से भी मिल चुके हैं और उन्हें संगीत सिखाने का ऑफर दे चुके हैं। वैसे तो इनका नाम एसबी राव है, लेकिन जब यह संगीतज्ञ बने तो लोगों ने इनका नाम गिटार राव रख दिया। एसबी राव चाहते हैं कि कि वो संगीत के जरिए दुनिया में शांति और अमन कायम करें, वह चाहता हैं कि पूरे भारत में स्वच्छ भारत की तर्ज पर ‘संगीत भारत’ अभियान शुरू किया जाए।

ये चाहते हैं कि संगीत के जरिए लोगों का तनाव कम किया जाए। इस खास उद्देश्य से वह हर रोज दिल्ली के 3 अलग-अलग जगहों पर संगीत सिखाते हैं। इसके लिए वह फीस के तौर पर बस एक रुपए लेते हैं, यह एक रुपए पूरे साल भर की फीस है। एसबी राव इंजीनियर से गिटार मैन कैसे बने इसकी कहानी भी बड़ी दिलचस्प है। उन्होंने बताया कि जब वह नौकरी करते थे, तब वह लोगों के कर्ज से डूब गए थे, जिसे चुकाना काफी मुश्किल था। इस कर्ज से वह कभी उबर नहीं पाए, धीरे-धीरे तनाव में डूब गए।

अपने इस हाल को देखकर उन्होंने नौकरी छोड़ दी और तिरुपति चले गए। तिरुपति जाकर उन्होंने संगीत सीखा। संगीत सीखने के बाद काफी हद तक उनका तनाव कम हुआ। इसके बाद राव ने फैसला किया, जो लोग भी तनाव से जूझ रहे हैं वह संगीत के जरिए उन लोगों की मदद करेंगे। वो दूसरे लोगों को संगीत सिखाएंगे जिससे लोगों की जिंदगी में तनाव न आए। गिटार राव चाहते हैं कि स्वच्छ भारत अभियान की तरह प्रधानमंत्री मोदी ‘संगीत भारत अभियान’ भी शुरू करें क्योंकि संगीत से लोग तनाव से दूर रहेंगे और खुश रहेंगे।

About Naina

I believe in the Power of Words.

View all posts by Naina →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *